Saturday , November 18 2017
Home / Local / शब-ए-बरात में ओखला के यासिर के इबादत का तरीका अनोखा, चलाते है हुगदंड करने वाले नौजवानो के खिलाफ मुहीम, आप भी जुड़ सकते है

शब-ए-बरात में ओखला के यासिर के इबादत का तरीका अनोखा, चलाते है हुगदंड करने वाले नौजवानो के खिलाफ मुहीम, आप भी जुड़ सकते है

ओखला के यासिर शब-ए-बरात के दिन चलाएंगे हुगदंड करने वाले नौजवानो के खिलाफ मुहीम

यासिर अली ने फेसबुक पर लिखा: “#कड़वी_मगर_सच्ची_बात
“कल 15 शाबान यानी शब-ए-बारात है यह रात हम मुसलमानों के लिए एक सुनहरा मौका लेकर आती है लेकिन किस तरह का सुनहरा मौका इस मुद्दे पर हम मुसलमानों की राय मुख्तलिफ होती हैं।
“कुछ मुसलमानों के लिए यह रात इबादत की रात है जो सारी रात इबादत में गुजार कर अपने और अपने मरहूमीन अजीजों अकराबा के लिए दुआएं मगफिरत करते हैं, कुछ के लिए यह महज़ शब-गुज़ारी का मौका होता है जो सारी रात दावतों में गुजार कर ऐसे सोते हैं कि सीधे अगले दिन इफ्तार के वक्त ही उठते हैं इसी बहाने उनका रोजा भी हो जाता है और तीसरे सबसे अफजल वो मुस्लिम नौजवान होते हैं जिनके लिए यह रात अपनी टोपी की शान दिखाने और अपनी बाइक की आवाज सबसे ज्यादा बुलंद करने के साथ साथ होली और गणेश विसर्जन जैसे त्योहारों पर किए गए हुगदंड का बदला लेने का मौका फ़राहम करती है।

ok

“अगर उन्हें हुगदंड करने से रोका जाए तो उनका इस्लाम खतरे में पड़ जाता है। अब सवाल यह उठता है कि इस बुराई के लिए सबसे ज्यादा कौन जिम्मेदार है मेरी नजर में हुगदंड करने वाले नौजवान कुछ ना समझ होते हैं जिन्हें दीन और दुनिया दोनों की थोड़ी कम समझ होती है तो मेरा सवाल उन समाज सुधारकों से है जो Facebook और WhatsApp पर बैठकर दिन रात दुनिया और समाज बदलते रहते हैं क्या हम सिर्फ Facebook और WhatsApp पर ही दुनिया बदलते रहेंगे या असलियत वाली दुनिया में उतर कर भी इस तरह की बुराइयों को रोकने के लिए कुछ अपना योगदान देंगे।

“अगर सच में आप इस तरह की बुराइयों को रोकना चाहते हैं तो हमने एक छोटी सी मुहिम 3 साल पहले शुरु की थी जिसमें हम दिल्ली की मुख्तलिफ जगहों पर ऐसे लोगों को समझा-बुझाकर उनसे दरखास्त करके उन्हें इस तरह की हरकत ना करके मस्जिदों में जा कर इबादत करने के लिए रजामंद करते हैं अगर आप इस मुहिम में हमारा साथ देना चाहें तो कल रात 9:00 बजे से हम इस मुहिम को फिर से आगे बढ़ाएंगे जो लोग इस नेक काम में साथ देना चाहें वो राब्ता कायम कर सकते हैं। शुक्रिया। यासिर अली, खुदाई खिदमतगार, 9555682122”

If you have news tip or story idea, photo or video please email at greenokhla@gmail.com to strengthen local governance and community journalism. Also you can join us and become a source for OT to help us empower the marginalized through digital inclusion.

Check Also

Crackdown on violators: Challans worth Rs 1.16 cr issued for construction activities

When Delhi’s air deteriorated several emergency measures were taken to bring environment under control and …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by moviekillers.com