Sunday , October 22 2017
Home / Local / Gloom descends on Dawat Nagar after Dhaka hangs Jamaat leader

Gloom descends on Dawat Nagar after Dhaka hangs Jamaat leader

Gloom descends on Dawat Nagar after Dhaka hangs Jamaat leaderMotiur Rahman Nizami on Tuesday for his alleged roles in 1971 war crimes.

Reacting on the development on the social media, Aslam Abdullah wrote: “Another member of Jamat Islamic Bangladesh was hanged. Amnesty that usually speaks against death penalty did not make an issue of that. Islamic scholars and Muslim countries remained silent. And yet another Muslim majority country proved that it has no place for mercy or forgiveness. It is difficult to convince people that when Muslims would assume power, they would be compassionate and kind. It is just impossible.”

The issue was debated in Dawat Nagar that has headquarters of Jamaat-e-Islami Hind. The religious organization issued a hard hitting release in Hindi.

बंगलादेश जमाअत इस्लामी के अध्यक्ष और देश के प्रख्यात नेता मौलाना मोतिउर्रहमान निजामी को शेख हसीना वाजिद सरकार के द्वारा फांसी दिये जाने को जमाअत इस्लामी हिन्द के अमीर (अध्यक्ष) मौलाना सैयद जलालुद्दीन उमरी ने इंसाफ और इस्लामी एवं मानव परंपरा की हत्या से परिभाषित करते हुए इस क्रूर एवं निर्मम प्रक्रिया की तीव्र निंदा की है। उन्होंने कहा कि जिस कथित युद्ध अपराध न्यायाधिकरण के फैसलों के तहत देश के महान व्यक्तित्वों के जीवन से खिलवाड़ किया जा रहा है इस बारे में केवल हमारा ही मत नहीं बल्कि मानवाधिकार के विभिन्न अंतर्राष्ट्रीय संस्थाओं की ओर से भी ये बातें आती रही हैं कि यह न्यायाधिकरण और उसके फैसले न्याय के अंतर्राष्ट्रीय मानक के अनुसार नहीं हैं।

जमाअत इस्लामी हिन्द के अध्यक्ष ने कहा कि हैरत होती है कि हसीना वाजिद प्रलोक में ईश्वर के दरबार में जवाबदही के एहसास को भुला बैठी हैं और जो लोग बंगलादेश में इस्लाम और मानव सेवा का लंबा रिकार्ड रखते हैं उन्हें एक एक कर के वह अपने जुल्म का शिकार बनाते हुए मौत दे रही हैं। वह क्यों भूल गयी हैं कि एक मानव की भी अकारण हत्या को इस्लाम संपूर्ण मानवता की हत्या करार देता है।

मौलान उमरी ने फरमाया कि बंगलादेश जमाअत इस्लामी के नेता की सिलसिलेवार हत्या प्रधानमंत्री शेख हसीना की राजनीतिक बदले की भावना से प्रेरित कार्रवाई दर्शाता है कि बंगलादेश जमाअत इस्लामी के साथ अभी कुछ वर्षों पूर्व ही उन्होंने राजनीतिक गठबंधन किया था और संयुक्त सरकार बनायी थीं और इसी जमाअत इस्लामी के नेता आज उनके मित्र नहीं हैं तो वह तरह तरह के अपराध के मुजरिम ठहराये जा रहे हैं और मौत के घाट उतारे जा रहे हैं। जमाअत इस्लामी के अध्यक्ष ने हसीना वाजिद को याद दिलाया कि उन्हें इस तरह के बदले की कार्रवाई करते हुए यह नहीं भूलना चाहिए कि अगर बंगलादेश प्रधानमंत्री द्वारा चलाया जाने वाला हत्या और खून का कारोबार इस्लाम विरोधी शक्तियों की प्रशंसा प्राप्त करने के लिए है] तो यह कर्म वास्तव में उनको अल्लाह की खुशी से बहुत दूर करने वाला है। जिससे उनको तौबा करना और अपने अत्याचार की प्रायश्चित करनी चाहिए।

If you have news tip or story idea, photo or video please email at greenokhla@gmail.com to strengthen local governance and community journalism. Also you can join us and become a source for OT to help us empower the marginalized through digital inclusion.

Check Also

kejriwalokhla

Kejriwal meets Batla House fire victims, makes these announcements

Kejriwal meets Batla House fire victims, makes these announcements Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal today …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by moviekillers.com